Breaking News World

*राफिया अरशद बनीं ब्रिटेन की पहली हिजाब पहनने वाली मुस्लिम जज*

 

ब्रिटेन के इतिहास में पहली बार कोई हिजाब पहनने वाली मुस्लिम महिला जज बनी है. राफिया अरशद नाम की ये महिला मिडलैंड्स में डिप्टी अटॉर्नी जनरल का पद संभालेंगी. राफिया का कहना है कि इस मुकाम तक पहुंचने के लिए वो कई सालों से मेहनत कर रही हैं.

एक ब्रिटिश अखबार को दिए इंटरव्यू में राफिया ने कहा, “मैं युवा मुसलमानों को बताना चाहती हूं कि वे जो सोचते हैं, उसे वो पा सकते हैं. मैं इस बात को विश्‍वसनीय बनाना चाहती हूं कि समाज में अलग-अलग विचारों वाले लोगों की समस्‍याओं को भी सुना जाना चाहिए. यह समाज में सभी महिलाओं के लिए महत्वपूर्ण है, खासकर मुस्लिम महिलाओं के लिए. मैं खुश हूं, लेकिन मुझे यह दूसरे लोगों से इसे शेयर करके ज्यादा खुशी मिली है.”

राफिया अरशद ने बताया, “मेरे लिए ये काफी मुश्किल था. इसके लिए मैंने सालों तक मेहनत की है. मेरे परिवार के लोगों ने मुझसे कहा कि मेरा हिजाब मेरी कामयाबी में बाधा बन सकता है लेकिन फिर भी मैंने हिजाब पहनना बंद नहीं किया, क्योंकि मुझे कामयाबी मेरी योग्यता से मिली है हिजाब से नहीं.

बता दें कि राफिया पिछले कई सालों से बच्चों से संबंधित कानून, जबरन शादी, महिलाओं के खिलाफ नस्लीय भेदभाव और इस्लामी कानून की प्रैक्टिस कर रही हैं. राफिया जल्द ही मिडलैंड्स में डिप्टी अटॉर्नी जनरल का पद संभालेंगी.

Related posts

રાશિફળ : 25/10/2021

Rajkotlive News

LAC के पास चीन ने बढ़ाई हेलिकॉप्टर की हलचल, एयरबेस पर पैनी नजर बनाए हुए है भारत

Rajkotlive News

कोरोना से बचने के लिए अहमदाबाद मनपा आयुक्त ने शुरु किया ‘नमस्ते’ अभियान अहमदाबाद : गुजरात के पड़ोसी राज्य राजस्थान समेत देश में कोरोना वायरस संक्रमण के कुछ मामले सामने आने के बाद राज्य की सर्वाधिक आबादी वाले शहर अहमदाबाद के मनपा आयुक्त विजय नेहरा ने नमस्ते अभियान शुरू किया है। और शहर के लोगों से अभिवादन के लिए पारंपरिक भारतीय पद्धति यानी दोनों हाथ जोड़कर नमस्ते कहने की सलाह दी है। नेहरा ने आज पत्रकारों से कहा कि हाथ मिलाने यानी हैंड शेक से बचें और ‘नमस्ते’ कहें। क्योंकि यह कोरोना वायरस से बचने का एक सबसे आसान और प्रभावी तरीका है। उन्होंने इस संबंध में अपने ट्‍वीट संदेश में कहा कि, ‘नमस्ते अहमदाबाद, अब जब हम कोरोना वायरस यानी सीओवीआईडी 19 से निपटने के लिए तैयार हो रहे हैं तो एक सबसे आसान और बहुत ही प्रभावी तरीका है कि हम हाथ मिलाने यानी हैंड शेक को ना कहे और नमस्ते का अपनाएं। नेहरा ने कोरोना वायरस संक्रमण के फैलाव को रोकने के लिए सभी से इस संदेश को अधिक से अधिक प्रसारित करने का आग्रह भी किया। ज्ञातव्य है कि गुजरात में अब तक कोरोना प्रभावित चीन और अन्य देशों से एक हजार से अधिक लोग लौट चुके है। पर राज्य में अब तक इसका एक भी पॉजिटिव केस नहीं आया है। बावजूद इसके कोरोना से निपटने के लिए राज्यभर में व्यापक तैयारियां की गई हैं। 

Rajkotlive News