Breaking News Gujarat Rajkot Saurashtra

गुजरात : सीएम रुपाणी को 7 मनोवैज्ञानिको ने लिखा खत, कहा- ढूंढना होगा लोकडाउन का विकल्प

गुजरात : सीएम रुपाणी को 7 मनोवैज्ञानिको ने लिखा खत, कहा- ढूंढना होगा लोकडाउन का विकल्प

राजकोट : कोरोना के संक्रमण को रोकने के लिए देश में लोकडाउन चल रहा है। गुजरात के तकरीबन सभी क्षेत्रों में का कड़ा अमल किया जा रहा है। ऐसे में राज्य के 7 मनोवैज्ञानिको ने सीएम रुपाणी को खत लिखा है। गुजरात साइकोलॉजिकल इंटरवेंशन हेल्पलाइन टू प्रिवेंट कोविड-19 के अध्याकपकों का फर्ज निभाते इन मनोवैज्ञानिको के मुताबिक, लोकडाउन के कारण लोगों की मानसिक स्थिति बिगड़ रही है। ऐसेमें राज्य सरकार को जल्द ही इसका विकल्प ढूंढना जरूरी है।

पत्र में सीएम विजय रूपाणी को यह सुझाव भी दिया गया है कि जहां कोरोना के मामले न हों, वहां के लोगों को थोड़ी अधिक छूट दी जाए। इसी तरह उन ग्रामीण क्षेत्रों में जहां कोरोना का एक भी मामला नहीं है, वहां लॉकडाउन पूरी तरह हटा लिया जाए। इसके अलावा उन्होंने कहा है कि, व्यसन मनोशारीरिक बीमारी ही है, जिसका स्वास्थ्य पर बहुत ही खराब असर होता है। पर व्यसन न मिलने पर व्यक्ति के मन एवं शरीर पर उसका भयानक असर पड़ता है। ऐसे में व्यसन मुक्ति केंद्र को अच्छी तरह से एक्टिव किया जाना चाहिए।

 

लोकडाउन को एक बंधन बताते हुए उन्होंने कहा है कि, अभी लोगों का सरकार पर भरोसा है। इसलिए वह प्रतिबंधों को स्वीकार रहे हैं, पर बंधन मानसिक स्थिति को बिगाड़ सकते हैं। एकाएक लाखों लोगों पर कर्फ्यू के रूप में बड़ा बंधन लाद दिया गया है। संपूर्ण लॉकडाउन के पहले राज्य के लाखों-करोड़ों लोगों को अपनी जीवनोपयोगी चीजों के संग्रह का समय दिया जाना चाहिए था। साथ ही मानसिक रूप से अस्वस्थ होनेवालों को अधिक से अधिक सहायता मिले, इसके लिए प्रयास करने की सलाह भी इस खत में दी गई है।

Related posts

જાણો રોમાન્સના અદ્ભુત ફાયદાઓ : રોમાન્સ તમારાં જીવનમાં બનશે ફાયદાકારક.

Rajkotlive News

ભાવનગર જિલ્લામાં અત્યાર સુધીમાં સિઝનનો કુલ 67.25 ટકા વરસાદ, સૌથી વધુ મહુવા તાલુકામાં 23 ઇંચથી વધુ વરસાદ નોંધાયો

Rajkotlive News

15 साल पुराने दो कर्मचारी 3.5 करोड़ के हीरे लेकर फरार, जांचमे जुटी पुलिस

Rajkotlive News