Breaking News Gujarat India World

RBI ने टॉप 50 विलफुल डिफॉल्टर्स का 68,607 करोड़ रुपये का कर्ज माफ किया, मेहुल चोकसी का नाम भी शामिल-RTI

भारतीय रिजर्व बैंक (आरबीआई) ने स्वीकार किया है कि उसने 50 टॉप विलफुल डिफाल्टर्स के 68,607 करोड़ रुपये के कर्ज माफ किए हैं. इसमें फरार हीरा कारोबारी मेहुल चोकसी का नाम भी शामिल है. यह जानकारी एक आरटीआई आवेदन से सामने आई है. प्रमुख आरटीआई कार्यकर्ता साकेत गोखले ने 50 शीर्ष विलफुल डिफाल्टर्स (जानबूझ कर कर्ज न चुकाने वाला) के बारे में जानकारी हासिल करने 16 फरवरी तक उनके ऋण की मौजूदा स्थिति के बारे में जानने के लिए एक आरटीआई आवेदन दाखिल किया था.

गोखले ने कहा कि मैंने यह आरटीआई इसलिए दाखिल की, क्योंकि वित्तमंत्री निर्मला सीतारमण और वित्त राज्य मंत्री अनुराग ठाकुर ने कांग्रेस सांसद राहुल गांधी द्वारा पिछले बजट सत्र में संसद में 16 फरवरी, 2020 को पूछे गए इस तारांकित प्रश्न का जवाब देने से इंकार कर दिया था.

गोखले ने कहा कि जिस तथ्य का खुलासा सरकार ने नहीं किया, उसका खुलासा करते हुए आरबीआई के केंद्रीय सार्वजनिक सूचना अधिकारी अभय कुमार ने शनिवार 24 अप्रैल को यह जवाब उपलब्ध कराया, जिसमें कई चौंकाने वाले खुलासे शामिल हैं.

आरबीआई ने कहा कि इस धनराशि (68,607 करोड़ रुपये) बकाया धनराशि शामिल हैं, और तकनीकी रूप से और विवेकपूर्ण तरीके से इस पूरी राशि को 30 सितंबर, 2019 तक माफ कर दिया गया है.

गोखले ने कहा, “शीर्ष बैंक ने सर्वोच्च न्यायालय के 16 दिसंबर, 2015 के एक फैसले का जिक्र करते हुए विदेशी उधारीकर्ताओं पर प्रासंगिक जानकारी मुहैया कराने से इंकार कर दिया.”

50 शीर्ष विलफुल डिफाल्टर्स की इस सूची में मेहुल चोकसी की भ्रष्टाचार में फंसी कंपनी गीतांजलि जेम्स लिमिटेड शीर्ष पर है, जिसके ऊपर 5,492 करोड़ रुपये की देनदारी है. इसके अतिरिक्त समूह की अन्य कंपनियां, गिली इंडिया लिमिटेड और नक्षत्र ब्रांड्स लिमिटेड हैं, जिन्होंने क्रमश: 1,447 करोड़ रुपये और 1,109 करोड़ रुपये लोन लिए थे.

चोकसी इस समय एंटीगुआ एंड बारबाडोस आईसलैंड का नागरिक है, जबकि उसका भतीजा और एक अन्य भगोड़ा हीरा कारोबाारी नीरव मोदी लंदन में है.

इस सूची में दूसरे स्थान पर आरईआई एग्रो लिमिटेड है, जिसने 4,314 करोड़ रुपये के कर्ज लिए थे. इसके निदेशक संदीप झुनझुनवाला और संजय झुनझुनवाला एक साल से अधिक समय से प्रवर्तन निदेशालय (ईडी) की जांच के दायरे में हैं.

सूची में अगला नाम भगोड़े हीरा कारोबारी जतिन मेहता की विनसम डायमंड्स एंड ज्वेलरी का है, जिसने 4076 करोड़ रुपये कर्ज ले रखे हैं, और केंद्रीय जांच ब्यूरो विभिन्न बैंक धोखाधड़ी के लिए इसकी जांच कर रही है.

दो हजार करोड़ रुपये की श्रेणी में कानपुर स्थित रोटमैक ग्लोबल प्रा.लि. है, जो प्रसिद्ध कोठारी समूह का हिस्सा है, और इसने 2,850 करोड़ रुपये कर्ज ले रखे हैं.

इस श्रेणी के अन्य नामों में शामिल हैं – कुदोस केमी, पंजाब (2,326 करोड़ रुपये), बाबा रामदेव और बालकृष्ण के समूह की कंपनी रुचि सोया इंडस्ट्रीज लिमिटेड, इंदौर (2,212 करोड़ रुपये), और जूम डेवलपर्स प्रा.लि., ग्वालियर (2,012 करोड़ रुपये).

इस सूची में 18 कंपनियां एक हजार करोड़ रुपये कर्ज वाली श्रेणी में हैं, जिनमें से कुछ प्रमुख नाम हरीश आर. मेहता की अहमदाबाद स्थित फॉरएवर प्रीसियस ज्वेलरी एंड डायमंड्स प्रा.लि. (1962 करोड़ रुपये), और भगोड़ा शराब कारोबारी विजय माल्या की बंद हो चुकी कंपनी किंगफिशर एयरलाइंस लिमिटेड (1,943 करोड़ रुपये) शामिल हैं.

Related posts

બ્લડ સુગર કંટ્રોલ કરવાથી લઈને કિડનીને સ્વસ્થ રાખવા માટે ખૂબ જ ઉપયોગી છે સીતાફળ સ્મુધી, આ રીતે તૈયાર કરો…..

Rajkotlive News

વલસાડ હાઈવે પર પારડીના મહિલા તલાટીનું અકસ્માતે મોત, મોપેડ લઇને આવતા હતા ત્યારે સુગર ફેકટરી પાસે વાહનચાલક ટક્કર મારી છૂ

Rajkotlive News

અમદાવાદમાં વેક્સિન લેનારા 5 બાળકોને મ્યુનિસિપલ કોર્પોરેશન દ્વારા આઇપેડ અપાયા

Rajkotlive News

Leave a Comment