Breaking News Gujarat Rajkot Saurashtra

एक हाथ नहीं होने के बावजूद तबला बजाने में उस्ताद है गुजराती युवक, सोनु निगम ने शेयर किया वीडियो

राजकोट : कला खरीदी या बेची नहीं जा सकती, यह तो व्यक्ति के अंदर ही होती है। और दुनिया की कोई मुश्किल कलाकार को आगे बढ़ने से नहीं रोक सकती है। राजकोट के सौरभ गढ़वी ने इस बात को यथार्थ कर दिखाया है। एक हाथ नहीं होने के बावजूद तबला बजाने में उस्ताद इस दिव्यांग युवक का वीडियो खुद बॉलीवुड सिंगर सोनु निगम ने अपनी शेयर किया है। और लिखा है कि, उत्कृष्ट, शुद्धता, काबू करने की इच्छा, विश्वास और प्रेक्टिस, ये सबकुछ इस वीडियो में है।

दरअसल सौरभ गढ़वी का एक हाथ नहीं है, कैल्शियम की कमी के कारण उसका एक हाथ कोहनी के आगे विकसित नहीं हुआ था। बावजूद इसके उसने न सिर्फ तबला बल्कि ड्रम बजाने में भी महारत हांसिल की है। इतना ही नहीं सौरभ को अपनी दिव्यांगता का कोई दु:ख नहीं है। उसकी सारी गतिविधियां अन्य बच्चों की तरह ही है। उसका मानना है कि, यदि मन में हिम्मत और दृढ़ विश्वास हो, तो दुनिया का कोई भी व्यक्ति कुछ भी कर सकता है।

परिवार की बात करे तो सौरभ के पिता दिनेश गढ़वी तबला वादक हैं। और 25 सालों से वे लोक संगीत से जुड़े हैं। उनके बड़े भाई चेतन गढ़वी भी गायक हैं, जो मुंबई में रहते हैं। इस तरह संगीत सौरभ को विरासत में मिला है। बचपन से ही सौरभ पिता के हर कार्यक्रम में शामिल होता था। और सिर्फ 4 साल की उम्र में उसकी उंगलियां तबलो पर थिरकने लगी थी। ड्रम बजाने का शौक होने के कारण वह एक स्टीक हाथ में और दूसरी कोहनी के साथ कपड़े से बांधकर ड्रम बजाता है।

सौरभ को रिधम की अच्छी जानकारी है। मणियारू, भांगड़ा, चलती, तीन ताली जैसी धुन वह ऐसे बजा लेता है कि, सुननेवाला झूम उठता है। हाल ही में उसने अपना एक वीडियो जारी किया, जिसकी सराहना करते हुए सोनु निगम ने उसे अपनी सोशल साइट पर शेयर किया है। इस कारण सौरभ काफी खुश है। और आनेवाले समय में सोनु निगम समेत बॉलीवुड के सभी बड़े कलाकारों के सामने अपनी कला का प्रदर्शन करने की इच्छा रखता है।

Related posts

આજે પરશુરામ જયંતી એટલે કે ભગવાન શ્રીવિષ્ણુના છઠા અવતાર પરશુરામજીનો આજે જન્મોત્સવ. આવો જાણીએ ભગવાન પરશુરામ વિશેની કેટલીક રસપ્રદ વાતો.

Rajkotlive News

रो पड़ेंगे आप भी: बीमार पिता को गोद में लेकर दौड़ा बेटा, हर कोई दंग रह गया.

Rajkotlive News

JEE ની મુખ્ય પરીક્ષાનું પરિણામ જાહેર દિલ્હીની કાવ્યા ચોપરા એ રચ્યો ઇતિહાસ 300 માંથી 300 અંક પ્રાપ્ત કરનાર પહેલી મહીલા.

Rajkotlive News