AhmedabadBreaking NewsGujarat

गुजरात : एक वेंटिलेटर पर कई मरीज, डॉक्टरों ने निकाला ऐसा विकल्प देखकर दंग रह जाएंगे आप

 

अहमदाबाद : कोरोना की महामारी से निपटने के लिए वेंटिलेटर जरुरी है। लेकिन तेजी से फैल रहे कोरोना के सामने पर्याप्त वेंटिलेटर उपलब्ध नहीं है। ऐसे में शहर में स्थित इंस्टीट्यूट ऑफ किडनी डिसीज एंड रिसर्च सेंटर के डॉक्टर्स ने वेंटिलेटर को संशोधित करते हुए कई हिस्सों में कर दिया। जिसके चलते एक वेंटिलेटर पर कई मरीज का इलाज करना संभव हुआ है।

कोरेाना मरीज को सांस लेने में परेशानी होती है। इसमें भी 60 साल से अधिक उम्रवालों की स्थिति तो अधिक खराब हो जाती है। ऐसे में इन मरीजों को मैकेनिकल वेंटिलेटर की जरूरत होती है। ये एक ऐसी मशीन होती है। जिसमें सांस लेने में असमर्थ रोगियों को मदद मिल सकती है। इस मशीन की मदद से मरीज की सांस लेने की नली में एक ट़यूब डाली जाती है। जिससे यह लोग फेफड़ों तक सांस खींच सकते हैं।

आईकेडीआरसी के निर्देशक विनीत मिश्रा ने कहा कि, हमें प्रत्‍येक मरीज के लिए वेंटीलेटर की आवश्‍यकता है। लेकिन हमारे पास वेंटीलेटर पर्याप्‍त संख्‍या में नहीं है। इसी कारण हमने वेंटिलेटर को संशोधित किया है। और उसमें से अलग-अलग नालियां निकली है। जिसे कई मरीजों की सांस लेने की नली में डालकर सबका एकसाथ ईलाज किया जा सकता है।

बतादे कि, कोरोना वायरस के कारण अमेरिका जैसे संपन्‍न देश में वेंटीलेटर्स के उत्‍पादन की आवश्‍यकता उपस्थित हुई है। ऐसे में आनेवाले समय में हमारे देश में भी वेंटिलेटर की कमी होना निश्चित है। जिसके लिए सरकार भी तैयारियों में जुट गई है। ऐसे वक्त गुजराती डॉक्टर्स द्वारा किए गए इस संशोधन से हजारों मरीजों को बड़ी मदद मिलेगी। और सिर्फ वेंटीलेटर की कमी के कारण किसीको अपनी जान नहीं गंवानी पड़ेगी।

Related posts

*Hypersomnia: ગંભીર રોગ માંથી સાજા થયા પછી થતો અતિનિંદ્રાનો માનસિક રોગ.. યોગ્ય તકેદારીથી મટી શકે છે આ બીમારી*

Rajkotlive News

રાજકોટ જિલ્લામાં માઇક્રો ઓબ્ઝર્વર્સનું બીજુ રેન્ડમાઈઝેશન હાથ ધરાયું…

Rajkotlive News

જાણી લો માથા ના દુખાવા ના કારણો લક્ષણો, અને એના ઉપાયો, આ ઉપાય કરવાથી તરત જ મળી જશે રાહત…

Rajkotlive News