AhmedabadGujarat

होम्योपैथी-आयुर्वेदिक दवाइयों से रोका जा सकता है कोरोना संक्रमण, गुजरात सरकार ने किया दावा

 

अहमदाबाद : गुजरात सरकार ने दावा किया है कि, होम्योपैथी और आयुर्वेदिक दवाइयों से कोरोना का संक्रमण रोका जा सकता है। साथ ही पॉजिटिव मरीज के संपर्क में आए 6 हजार से ज्यादा लोगों को बचाने का दावा भी किया गया हर। सरकार के मुताबिक, इन मरीजों को 14 दिनों तक क्वोरंटाईन में रखने के बाद उनके ऊपर आयुर्वेदिक और होमियोपैथी दवाइयों का प्रयोग किया गया था। जिसके बहेतर नतीजे मिले है।

दरअसल रोग प्रतिरोधक क्षमता बढ़ाने के लिए कुछ लोग आयुर्वेद और होम्योपैथी दवाइयों का इस्तेमाल करते है। इसके लिए केंद्र सरकार ने भी गाइडलाइन जारी कर रखी है। पिछले दिनों ही गुजरात सरकार के स्वास्थ्य और परिवार कल्याण मंत्रालय ने विशेषज्ञों की सलाह पर दिशा-निर्देश जारी किए थे। राज्य सरकार का कहना है कि, अगर अन्य कोरोना पॉजिटिव लोग इसके लिए तैयार होते है तो, उनके उपर भी यह प्रयोग किया जा सकता है।

बतादे कि, पतंजलि योगपीठ के आयुर्वेदाचार्य और बाबा रामदेव के सहयोगी आचार्य बालकृष्ण ने भी पिछले दिनों दावा किया था कि, आयुर्वेदिक दवाईयों से न सिर्फ कोविड-19 का शत-प्रतिशत इलाज संभव है, बल्कि इसके संक्रमण से बचने को इन दवाओं का बतौर वैक्सीन भी इस्तेमाल किया जा सकता है।

बालकृष्ण के मुताबिक, पतंजलि अनुसंधान संस्थान में इस पर बीते तीन महीने से शोध चल रहे है। चूहों पर कई दौर के सफल परीक्षण के बाद यह निष्कर्ष सामने आया है कि, अश्वगंधा, गिलोय, तुलसी और स्वासारि रस का निश्चित अनुपात में सेवन करने से कोरोना के मरीज को पूरी तरह स्वस्थ किया जा सकता है।

Related posts

गुजरात सरकार का बड़ा फैसला, कर्मचारियों को नौकरी से हटाने या सैलरी ना देने पर 1 साल सजा

Rajkotlive News

જાણો રાજકોટના રૈયાણી વિશે. રાજકોટના બે નેતાને બદલે એક નેતાને જ મળ્યું મંત્રી મંડળમાં સ્થાન. વિવાદો સાથે પણ રહ્યો છે નાતો..

Rajkotlive News

गुजरात : कोरोना वायरस के 19 नए मामले, सर्वाधिक 77 संक्रमित लोग अहमदाबाद में

Rajkotlive News