Breaking News Gujarat Rajkot Saurashtra

महिला एएसआई थानेमें ही कराती है बेटे को फीडिंग, हर तीसरे घंटे मासुम को लेकर आते है पति

 

राजकोट : कोरोना का कहर प्रतिदिन बढ़ रहा है। ऐसे में पुलिस, डॉक्टर, नर्स और मीडियाकर्मी सभी राष्ट्र के सेवक बनकर अपनी जिम्मेदारी बखूबी निभा रहे हैं। लेकिन महिला पुलिस थाने की एएसआई कुछ अलग ही है। क्योंकि वह अपने एक साल के बेटे को थाने में ही फीडिंग कराती हैं। उनका कहना है कि मैं यदि कुछ घंटों के लिए छुट्टी लेती हूं, तो मेरे साथियों पर काम का बोझ बढ़ जाएगा। इसी कारण मेरे पति हर तीसरे घंटे बेटे को लेकर आते है। और में यहीं उसे फीडिंग करा लेती हूं।

राजकोट के महिला थाने में तैनात एएसआई रेखाबेन रमेशभाई सावलिया की ड्यूटी 12 घंटे की है। लेकिन सालभर का बच्चा होने के कारण तीन-चार घंटे में उसे फीडिंग करवाना जरुरी है। ऐसेमें निजी कंपनी में काम करनेवाले पति रमेशभाई ने कहा कि, इस समय देश को इस वक्त तुम्हारी जरूरत है, बेटे को मैं देख लूंगा। जब बेटे को भूख लगेगी, तो मैं उसे लेकर थाने पहुंच जाऊंगा। थाने में पहुंचते ही बाप-बेटे को सेनेटाइज किया जाता है।

लोकडाउन घोषित होने के बादसे रमेशभाई हर तीसरे घंटे बेटे को लेकर थाने आते हैं। और रेखाबेन यहीं पे बेटे को फीडिंग कराती हैं। उसके लिए थाने में ही झूला भी रखा है, जब वह बहुत रोता है, तो उसे झूले पर सुला दिया जाता है। रेखाबेन थाने में अर्जी निवारण शाखा में काम करती हैं। जिसमें कई लोगो के आवेदनों को हाथ लगाना होता है, ऐसे में बच्चे की फीडिंग का ध्यान रखते हुए वे बार-बार खुद को सेनेटाइज करती रहती है। और हाथों में सेनेटाइजर लगाकर ही रेखाबेन बच्चे को स्पर्श करती हैं।

Related posts

રાજકોટ જિલ્લામાં કોરોના પોઝિટિવ કેસની સંખ્યા 16 હજારને પાર, મોતનો આંક એકાએક વધ્યો 24 કલાકમાં 9ના મોત

Rajkotlive News

15 अगस्त के बाद खुलेंगे स्कूल-कॉलेज, मानव संसाधन मंत्री रमेश पोखरियाल निशंक का ऐलान

Rajkotlive News

દુબઈ એક્સ્પો

Rajkotlive News