Breaking NewsGujaratRajkotSaurashtra

कोरोना का इलाज करने डोक्टर पहनते है यह खास पोशाक, पांच घंटे नहीं पी सकते पानी

कोरोना का इलाज करने डोक्टर पहनते है यह खास पोशाक, पांच घंटे नहीं पी सकते पानी

राजकोट : कोरोना की महामारी का इलाज करनेवाले डॉक्टर्स को खास पोशाक पहननी पड़ती है। इतना ही नहीं मरीज पॉजिटिव हो या नेगेटिव इलाज करनेवाला डोक्टर 5 घंटे तक पानी भी नहीं पी सकता। पहलीबार कोरोना के इलाज की इस खास पोशाक के फोटोज सामने आए है। जिसमें डोक्टर का चहेरा तक दिखाई नहीं देता है। यह पोशाक पहननेवाले डॉक्टर को कई मुसीबतों का सामना भी करना पड़ता है।

कोरोना का कोई भी मरीज हो, उसके इलाज के लिए डॉक्टर्स को विशेष पोशाक पहननी हाेती है। पर्सनल प्रोटेक्टिव इक्विपमेंट यानी पीपीई नामक यह पोशाक पहननेवाले डॉक्टर्स अपनी जान की भी परवाह किए बिना ही मरीज का इलाज करते हैं। इस पोशाक में डॉक्टर्स ना ही मोबाइल रख सकते है। और ना ही किसीसे बात कर सकते है। इतना ही नही पांच घंटे तक खाना तो दूर पानी भी नहीं पी सकते है।

मीडिया से की गई बातचीत में क्रिटीकल स्पेशलिस्ट डोक्टर मयंक ठक्कर ने बताया कि, पीपीई पहनने के बाद हम कई घंटों तक बंधन में बंध जाते हैँ। इससे हम सुरक्षित तो हो जाते हैं, पर जान का खतरा बना रहता है। न पानी पी सकते हैं न ही वॉशरूम जा सकते हैँ। क्योंकि ऐसा करने में हमे भी संक्रमण होने की पूरी संभावना रहती है। जब इलाज हो जाता है, तो पीपीई को पूरी तरह से रिमूव कर दिया जाता है। इसके बाद कम्लीट वॉश लेते हैं। इसके बाद ही हम कुछ खा-पी सकते हैं।

Related posts

ફ્રાંસના ચર્ચમાં છેલ્લા 70 વર્ષમાં ત્રણ લાખથી વધારે બાળકોનું યૌન શોષણ થયું,પંચે અઢી વર્ષની તપાસ બાદ 2500 પાનાનો અહેવાલ જાહેર કર્યો

Rajkotlive News

રાશિફળ : 20/09/2021

Rajkotlive News

गुजरात में लॉकडाउन का पालन कराने गई पुलिस पर पथराव, पुलिस ने दागे आंसू गैस के गोले

Rajkotlive News