Breaking News India

*जनता कर्फ्यू में कौन बाहर निकल सकता है, कौन नहीं, समझिए ये क्या है*

कोरोनावायरस को लेकर देशभर में कई तरह की खबरों के बीच प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी खुद सामने आए और कई बातें साफ कीं. पीएम ने सतर्कता बरतने और संयम रखने की अपील की. इसके साथ ही पीएम मोदी ने रविवार 22 मार्च को जनता कर्फ्यू का ऐलान किया. उन्होंने कहा कि रविवार सुबह 7 बजे से रात 9 बजे तक सभी देशवासियों को जनता कर्फ्यू का पालन करना है. लेकिन आखिर ये जनता कर्फ्यू होता क्या है? कर्फ्यू और जनता कर्फ्यू में क्या अंतर होता है? इसमें लोगों को क्या-क्या करना है और क्या नहीं करना है? इन सभी सवालों के जवाब हम आपको दे रहे हैं.

क्या है ‘जनता कर्फ्यू’?

अभी तक देशभर के लोगों ने कर्फ्यू शब्द कई बार सुना होगा. क्योंकि देश के कई राज्यों में कभी न कभी इसे लगाया जाता है. जम्मू-कश्मीर में कर्फ्यू लगना आम बात है. लेकिन पीएम मोदी ने पहली बार जनता कर्फ्यू शब्द का इस्तेमाल किया. अब ये जानना जरूरी है कि जनता कर्फ्यू आखिर होता क्या है?

जनता कर्फ्यू को हम कुछ इस तरह समझ सकते हैं कि ये कर्फ्यू जनता का खुद पर लगाया गया एक प्रतिबंध है. यानी इसके लिए पुलिस या सुरक्षाबलों की तरफ से कोई भी पाबंदी नहीं लगाई जाएगी. लोग खुद ही अपने काम टालेंगे और बाहर निकलने से बचेंगे. सोसाइटी में भी निकलने से बचेंगे. हालांकि जो लोक आवश्यक सेवाओं में हैं वो घर से काम के लिए निकल सकते हैं. पब्लिक ट्रांसपोर्ट पूरी तरह से बहाल रहेगा.
कौन लोग निकल सकते हैं बाहर?

जनता कर्फ्यू के दौरान वैसे तो काफी जरूरी काम पड़ने पर कोई भी बाहर निकल सकता है, लेकिन इस दौरान कुछ लोगों को खुद पीएम मोदी ने अपनी सेवाओं में बने रहने की अपील की है. पीएम मोदी ने खासतौर पर डॉक्टरों, सफाईकर्मियों और मीडियाकर्मियों का जिक्र किया. मतलब जनता कर्फ्यू के दौरान ऐसी सेवाएं देने वाले लोगों को घर से निकलना होगा.

Related posts

कोरोना को मात देकर लौटी गुजराती युवति, बोली- डरने की कोई बात नहीं

Rajkotlive News

ડાયાબિટીસ અને કોરોના અલ્પા ચાવડાનો સર્વે……..

Rajkotlive News

गुजरात में कोकोनट के पेड़ पर गिरी बिजली, लाईव दृश्य कैमरा में हुआ कैद, देखकर चौंक उठेंगे आप

Rajkotlive News