Breaking NewsIndiaPolitics

*निर्भया के दोषियों ने फांसी से बचने के लिए अंतर्राष्ट्रीय न्यायालय से लगाई गुहार*

निर्भया के दोषियों ने फांसी से बचने के लिए एक बार फिर नया पैंतरा खेला है। निर्भया के चार दोषियों में से तीन ने अंतर्राष्ट्रीय न्यायालय से गुहार लगाई है। फांसी की तारीख के नजदीक आने के साथ ही निर्भया के दोषियों में बेचैनी बढ़ती जा रही है। मौत को पास आते देख एक के बाद एक नई-नई अर्जियां अलग-अलग जगह पर दाखिल कर ये सभी फांसी पर रोक लगाने की मांग कर रहे हैं।

इसबार चार दोषियों में से तीन विनय, पवन और अक्षय ने इंटरनेशनल कोर्ट का दरवाजा खटखटाया है।

कुछ विदेशी संस्‍थाओं की है केस पर नजर – एपी सिंह
निर्भया के दोषियों के वकील एपी सिंह ने कहा कि एनआरआई और उनसे संबंधित कुछ संस्‍थाएं इस केस पर लगातार नजर रखे हए थीं। इन संस्‍थाओं ने मांग की है कि उनको इस केस की कापी दी जाए, जिसको आइसीजे (इंटरनेशल कोर्ट ऑफ जस्‍टिस) के सामने रखा जाए ताकि डेथ वारंट पर रोक लगाई जाए। उन्‍होंने कहा कि हम भारत की न्‍याय व्‍यवस्‍था पर पूरा भरोसा रखते हैं लेकिन उन्‍होंने इसे आइसीजे जाने का फैसला लिया है।

ऐसा है अंतर्राष्‍ट्रीय न्‍यायालय


अंतर्राष्ट्रीय न्यायालय (आईसीजे) को संयुक्त राष्ट्र के चार्टर के तहत जून 1945 में बनाया गया था। हालांकि ICJ ने अपना काम 1946 के अप्रैल से करना शुरू किया था। गौरतलब है कि यह संयुक्त राष्ट्र का प्रमुख न्यायिक अंग है। अंतर्राष्ट्रीय न्यायालय का मुख्यालय हेग (नीदरलैंड) के शांति पैलेस में है।

Related posts

सूरत की केमिकल फैक्ट्री में बॉयलर फटने से भीषण आग, जान बचाने तीसरी मंजिल से कूद गया मजदूर

Rajkotlive News

गुजरात में लोकल ट्रांसमिशन बढ़ना चिंता का विषय, आरोग्य अग्र सचिव जयंति रवि

Rajkotlive News

કોરોનાની સાઇડ ઇફેક્ટ

Rajkotlive News