AhmedabadBreaking NewsGujarat

गुजरात : 2002 नरोडा दंगा मामले की सुनवाई कर रहे जज का तबादला, भाजपा पूर्व मंत्री भी है आरोपी

गुजरात : 2002 नरोडा दंगा मामले की सुनवाई कर रहे जज का तबादला, भाजपा पूर्व मंत्री भी है आरोपी

अहमदाबाद : 2002 नरोडा दंगा मामले की सुनवाई कर रहे एक विशेष एसआईटी न्यायाधीश का तबादला हो गया। गुजरात उच्च न्यायालय के एक आदेश से न्यायाधीश एम के दवे को वलसाड के प्रधान जिला न्यायाधीश के तौर पर नियुक्त किया गया है। हालांकि इस मामले में पूर्व भाजपा मंत्री माया कोडनानी एक आरोपी है। ऐसे में अचानक उनके तबादले को लेकर लोगोंमे कई सवाल उठने लगे है। न्यायाधीश दवे का स्थान एस के बक्शी लेंगे। जो यहां स्थानांतरित किये जाने से पहले भावनगर के प्रधान जिला न्यायाधीश के तौर पर कार्य कर रहे थे।

बतादे कि, नरोडा दंगा मामले में अंतिम दलीलें सुन रहे थे और कोडनानी के वकील ने पिछले सप्ताह मामले में अपनी दलीलें शुरू की थी। अभियोजन के साथ ही कई आरोपियों का प्रतिनिधित्व कर रहे बचाव पक्ष की दलीलें पहले ही पूरी हो चुकी हैं। ऐसेमें न्यायाधीश दवे के स्थानांतरण के बाद संभावना है कि, नये न्यायाधीश को अंतिम दलीलें नये सिरे से सुननी पड़े। अदालत ने मामले में साक्ष्य दर्ज करने की प्रक्रिया फरवरी 2018 में शुरू की। इससे पहले मामले की सुनवाई करनेवाले न्यायाधीशों में शामिल रहे पूर्व प्रधान सत्र न्यायाधीश पी बी देसाई दिसम्बर 2017 में सेवानिवृत्त हो गए थे।

गौरतलब है कि, नरोडा गाम नरसंहार उन नौ प्रमुख दंगा मामलों में से एक है, जिनकी जांच उच्चतम न्यायालय द्वारा नियुक्त विशेष जांच दल (SIT) ने की थी। 2002 के दंगों के दौरान अहमदाबाद के नरोडा गाम क्षेत्र में अल्पसंख्यक समुदाय के 11 सदस्य मारे गए थे। मामले में कुल 82 लोग सुनवाई का सामना कर रहे है। कोडनानी भी इस मामले के आरोपियों में शामिल है। जो पूर्व मुख्यमंत्री नरेन्द्र मोदी सरकार में राज्य की महिला एवं बाल विकास मंत्री थी।

Related posts

1 जून 2020 से लागू होगी एक देश एक राशन कार्ड स्‍कीम, प्रवासी कामगारों को होगा फायदा

Rajkotlive News

દુબઈ એક્સ્પો

Rajkotlive News

राष्ट्रव्यापी लॉकडाउन के मद्देनज़र सभी यात्री ट्रेनों का परिचालन 3 मई तक रद्द, मालगाड़ियॉं चलती रहेंगी

Rajkotlive News