Breaking News Gujarat India Politics

गुजरात में हुई भारी वोटिंग का किसको मिलेगा फायदा ? जानिए क्या है भाजपा-कोंग्रेस का तर्क

कुलीन पारेख

राजकोट : लोकसभा चुनावों में गुजरात ने 64% वोटिंग कर सबको चौंका दिया है। और सब के मनमें सिर्फ एक ही सवाल है कि, इंदिरा लहर, अटल लहर और 2014 की सबसे बड़ी मोदी लहर में भी इतना वोटिंग नहीं हुआ था। तो इस बार आखिर ऐसी बात है ? जिसके चलते गर्मियों के बावजूद लोगोने इतना भारी मतदान किया है। सवाल उठ रहे है कि, क्या राहुल के ‘चौकीदार चोर है’ के नारोंने लोगो को जगा दिया ? या प्रधानमंत्री की राष्ट्रवाद और पाकिस्तान की बातोंने लोगोंमे जोश भरने का काम किया?

जानिए क्या कहना है भाजपा और कोंग्रेस का

भाजपा और कोंग्रेस दोनों दलोंने अपने-अपने तर्क दिए है। कांग्रेस कहती है कि यहां भाजपा को लेकर नाराजगी थी,जो वोट में तब्दील हुई। तो भाजपा का कहना है कि आखिरी दिनों में यहां हुई मोदी की रैलियों ने पूरा माहौल ही बदल दिया है। जिससे लोग भाजपा के समर्थन में वोट डालने चले आए। सीटों की बात की जाए, तो अमरेली, जूनागढ़, सुरेंद्रनगर, और आणंद सीट पर भी मतदान ने चौंकाया है। पाटण, बनासकांठा, आणंद, अमरेली और जूनागढ़ ऐसी सीटें हैं, जहां कांग्रेस के जीतने की सबसे अधिक संभावनाएं देख रही थी।

19 सीटों पर 2014 जैसा या उससे अधिक वोटिंग हुआ।

हालांकि आणंद, अमरेली, जूनागढ़ में मतों के प्रतिशतमें कोई खास अंतर नहीं है। इसका यह भी संकेत हो सकता है कि ये सीटें भाजपा भी जीत सकती है। इसके अलावा जिन सीटों पर भाजपा का गढ़ था, ऐसी सीटे गांधीनगर वडोदरा, सूरत, जामनगर, राजकोट और अहमदाबादमें 2014 जैसा मतदान हुआ है। गुजरात में 19 सीटें ऐसी हैं, जहां 2014 जैसा या उससे अधिक मतदान हुआ है। जिसके चलते ये सीटें फिर भाजपा के पास जाती दिखाई दे रही है। गांव की बात करे तो विशेषकर आदिवासी क्षेत्र में अधिक मतदान भाजपा के लिए खतरे की घंटी भी बन सकता है।

मोदी के लिए अंडरकरंट या सरकार के प्रति नाराजगी ?

आमतौर पर जब किसी बात को लेकर जबर्दस्त माहौल या फिर किसी पक्ष के खिलाफ भयानक गुस्सा हो तब इस प्रकार का वोटिंग होता है। ऐसेमें गुजरात में मोदी को लेकर कोई अंडरकरंट था या नाराजगी? क्योंकि मतों के प्रतिशत में सबसे बड़ा उछाल तो ग्रामीण सीटों पर आया है। हालांकि सही जवाब तो 23 मई को ही मिलेगा। परंतु मतदान का जो दृश्य सामने आया है, उसके अनुसार कई सीटों पर परिणाम निश्चितरुपसे चौंकानेवाले हो सकते हैं।

Related posts

महिला बेंक कर्मचारी पर हमले को लेकर रेशमा बोली- गुजरात में महिला सुरक्षा पर सवाल खड़े हुए,

Rajkotlive News

गुजरात में 10 से 15 सीटो पर कोंग्रेस का विजय निश्चित, राजकोट प्रेस कॉन्फ्रेंस में अहमद पटेल का दावा

Rajkotlive News

એફડીઆઈ મેળવવામાં ગુજરાત દેશમાં પ્રથમઃ એક વર્ષમાં 2.23 લાખ કરોડનું રોકાણ.

Rajkotlive News

Leave a Comment